Category: Poetry

सपना जीत का?

हां ! आज मैंने एक सपना देखा,Corona से जीता, मैंने भारत देखा। Lockdown के बाद, जीने का नया जज़्बा देखा,घरों से निकले लोगो का, हौसला देखा,खुल कर टकराए,…

सफर

वक्त बेवक्त इस सफर में तुम मिल गए,अब ये सफर ,और हसीन हो गया। हुई थी शुरुवात,इस सफर की,तेरी एक हसीं से ।कुछ कनेक्शन सा हो गया था…