Poetry

Sapna Jeet Ka?

सपना जीत का?

हां ! आज मैंने एक सपना देखा,Corona से जीता, मैंने भारत देखा। Lockdown के बाद, जीने का नया जज़्बा देखा,घरों से निकले लोगो का, हौसला देखा,खुल कर टकराए, दोस्तो के प्यालों को देखा,पार्कों में चोंच लड़ाते, मतवालों को देखा,मार्केट में झगड़ा करती, आंटीयों को देखा,सड़कों पर भीड़ लगती, उन गाड़ियों को देखा,Cricket खेलते मैदानों में, …

सपना जीत का? Read More »

Safar

सफर

वक्त बेवक्त इस सफर में तुम मिल गए,अब ये सफर ,और हसीन हो गया। हुई थी शुरुवात,इस सफर की,तेरी एक हसीं से ।कुछ कनेक्शन सा हो गया था शायद,तेरी उस पिंक ड्रेस वाली चुनरी से । याद नहीं किसने की थी, इस सफर की शुरूआत,पर हमारी दोस्ती में था, तेरी आंखो का भी बहुत बड़ा …

सफर Read More »